क्या छोडूं क्या प्यार करुँ?

0
क्या छोडूं क्या प्यार करुँ?

क्या छोडूं क्या प्यार करुँ?

जितने तारे नील गमन में,
उतने सपने जगे हैं मन में,
इस लघु जीवन में बोलो, तो
किस किस को साकार करुँ?
क्या छोडूँ, क्या प्यार करुँ?

जितनी चाह न उतनी राहें,
जितना प्यार न उतनी बाहें,
हाय! हृद्य का धन देकर भी,
पीने को मिलती हैं आहें।
चाह रहा पीड़ा पी जाऊँ,
झोंपड़ियों को महल बनाऊँ,
किन्तु यहाँ थोड़े से क्षण में,
किस-किस का आधार धरुँ?

कितने दु:खी यहाँ तन-मन हैं,
और विवश कितने ही क्षण हैं,
व्यर्थ भटकते मंजिल के हित,
राहों के नित सूनेपन हैं।
चाह रहा जन-जन तक जाऊँ
खाई पाट पुलिन बन जाऊँ,
चलकर इस अपार निर्जन में
किस किस पथ को पार करुँ?

पीड़ा में सोयी मधु आशा
सजग विनाश, सृजन है प्यासा;
कोई कण्व बना है रोता,
कोई बन जाता दुवार्सा।
विश्वामित्र आज बन जाऊँ,
निबार्धितनव-सृष्टि रचाऊँ,
किन्तु बँधा अपने बंधन में।
किससे नित्य पुकार करुँ?

किसको मीत बनाऊँ, जग में?
किससे प्रीति जताऊँ जग में?
काँटे लगने लगे यहाँ अब
विकसित सुमनों की रग-रग में,
चाह रहा काँटे सहलाऊँ,
फूलों को सुकुमार बनाऊँ,
चुभन विकट है अपनेपन में,
पतझड़ किसे बहार करुँ?

अपने तो केवल सपने हैं,
दिन में कब तारे जगने हैं,
कहो गरल से सिंचित तरु में
यहाँ कहाँ मधुफल लगने हैं?
चाह रहा अमृत बरसाऊँ,

जग से विष की बेल हटाऊँ,
मधु-भावों से पलित है मन;
किस-किस की मनुहार करुँ?

रचना- स्वर्गीय कवि प्रभुदयाल कश्यप ‘प्रवासी’

स्व. कवि प्रभुदयाल कश्यप
फोटो स्व. कवि प्रभुदयाल कश्यप

कवि परिचय- अपने शब्दों के चयन से वाक्य में कसावट ला देने अथवा उसके अर्थ में चमत्कार पैदा कर देने वाले स्वर्गीय कवि प्रभुदयाल कश्यप ‘प्रवासी’ का जन्म हरियाणा के फरीदाबाद जिले के होडल कस्बे में 2 फरवरी,1931 को आर्थिक ख़स्तगी झेलते एक तप: पूत, तेजोमय एवं आचार-विचार की शुचिता वाले कश्यप-गोत्रीय, ब्राह्मण परिवार में हुआ। उनकी मृत्यु 19 दिसंबर 2017 उनके स्थायी पते 800 सेक्टर 17 फरीदाबाद में हुई।

शिक्षा- एम.ए. (हिन्दी) और शिक्षा- स्नातक

व्यवसाय- राजकीय महाविद्यालय फरीदाबाद से हिन्दी-प्राध्यापक के पद से सेवानिवृत हो स्वतंत्र-लेखन में संलग्न रहे।

प्रकाशित कृतियाँ- कुहरे में कौमुदी-महोत्सव, पूर्वरंग के बाद और गीत-अगीत।

© ये रचनाएं कोपीराईट के अधीन हैं, बिना अनुमति इनका प्रकाशन या उपयोग वर्जित है।

Leave a Reply