MeToo: आलोक नाथ की याचिका की ख़ारिज, विनता नंदा के हक़ में फैसला

0
#MeToo: Alok Nath's petition dismissed, Vineeta Nanda's verdict
Photo : Google

#MeToo मूवमेंट के आरोपी आलोक नाथ पर डायरेक्टर विनता नंदा ने यौन शोषण का आरोप लगाया था। जिसके चलते आलोक की पत्नी आशु सिंह ने विनता नंदा पर मानहानि का केस कर दिया था और वह चाहती थी कि विनता के बयानों पर रोक लगाई जाये। इस केस की सुनवाई शुक्रवार यानी आज कोर्ट में हुई है, जिसमे मुंबई कोर्ट में फैसला सुनाया है कि विनता को किसी भी प्लेटफॉर्म पर बोलने का अधिकार है।

साथ ही, आपको बता दे कि हमारे संविधान में सभी को खुलकर अपने विचार रखने का अधिकार हर व्यक्ति को दिया गया है। जिसके चलते कोर्ट ने ये फैसला विनता नंदा के हक़ में दिया है। कोर्ट ने कहा विनता टीवी, सोशल मीडिया, प्रिंट या अन्य किसी भी प्लेटफॉर्म पर अपना बयान दे सकती है इसके लिए उन्हें कोई नहीं रोक सकता।

आलोक नाथ भी इस मामले में अपनी सफाई देते हुए सभी आरोपों को बेबुनियाद बताया था। आरोपों के तुरंत बाद आलोक नाथ ने कहा था, “वो (विनता) जो कुछ भी बोल रही हैं उनका व्यक्तिगत दृष्टिकोण है। मैं ना इस मामले को स्वीकारता हूं, ना ही इससे मना करता हूं। लोगों का काम तो बातें करना है। मैं यहां अपनी सफाई नहीं देने जा रहा हूं। किसी भी ऐसे मामले में सिर्फ एक आदमी इन्वॉल्व नहीं होता है। वे आगे इस पर और बात करेंगे।  इस समय मैं चुप ही रहना चाहूंगा। अभी-अभी इस मामले को पढ़ा है और वे ज्यादा क्लीयर नहीं हैं।”

क्या है पूरा मामला

विनता नंदा ने आलोक नाथ के खिलाफ यौन शोषण का आरोप लगाया था। उन्होंने फेसबुक पर लंबा चौड़ा पोस्ट लिखकर आलोक पर संगीन आरोप लगाए थे। विनता ने कहा, ”उन्होंने मेरे साथ शारीरिक दुर्व्यवहार किया। मैं 1994 में टीवी के नंबर वन शो ‘तारा’ को लिख रही थी और इसका प्रोडक्शन कर रही थी। वह मेरी लीड गर्ल के पीछे थे। लड़की की उनमें कोई दिलचस्पी नहीं थी। एक सीन के दौरान आलोक पहले तो सेट पर शराब पीकर आए और उसके बाद शॉट के दौरान नवनीत पर गिर पड़े, जिसके बाद नवनीत ने उन्हें थप्पड़ मारा।”

विनता ने बताया कि एक बार वह आलोक नाथ के घर पर हुई पार्टी में शामिल हुई। वहां से देर रात दो बजे के करीब घर जाने के लिए निकलीं। ड्रिंक में कुछ मिला दिया गया था। रास्ते में उस शख्स ने गाड़ी रोकी, जो खुद चला रहा था और कहा कि मैं उनकी गाड़ी में बैठ जाऊं, मुझे घर छोड़ देगा। मैं उस पर भरोसा करके गाड़ी में बैठ गई। नंदा ने कहा, “इसके बाद मेरे मुंह में और ज्यादा शराब डाली गई और मेरे साथ काफी हिंसा की गई। अगले दिन जब दोपहर को मैं उठी, तो मैं काफी दर्द में थी। मेरे साथ सिर्फ दुष्कर्म ही नहीं किया गया था बल्कि मुझे मेरे घर ले जाकर मेरे साथ नृशंस व्यवहार किया गया था।”

Leave a Reply